क्योंकि , वो मकान खाली पड़ा है।।

—◆◆◆— 🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟 क्योंकि वो मकान खाली पड़ा है।। जब भी गुजरता हूँ उस राह से तो भर आती हैं आँखे क्योंकि जहाँ

“स्तब्ध” टकटकी लगाए,

—◆◆◆— 🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟 टकटकी लगाए, स्तब्ध खड़ी मैं.. रोकने की चाह मैं, मौन खड़ी मैं.. चीख़ती – पुकारती, जड़वत, मन ही मन, #आवाज

1 2 3 6