अहम् निरन्तर देता भय

—◆◆◆— 🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟 अहम् निरन्तर देता भय वाकिफ़ कहाँ जमाना हैं। हार रहा इंसान इससे यह बुनियादें खोद रहा हैं। दर्द वेदना के

1 2 3 4 5 89