क्योंकि , वो मकान खाली पड़ा है।।

—◆◆◆— 🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟 क्योंकि वो मकान खाली पड़ा है।। जब भी गुजरता हूँ उस राह से तो भर आती हैं आँखे क्योंकि जहाँ

ख़्वाब मुक़म्मल तुम कर दो

—◆◆◆— 🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟 तसव्वुर में जो मिलती हो मुझसे वैसे कभी हकीकत में मिलो कभी तो मेरे ख्वाबो को मुक़म्मल तुम कर दो,