मोहताज़ मोहब्बत

—◆◆◆— 🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟 मोहब्ब़तें मोहताज़ दिलों के शामियानों में रुस़वा इसे न करो अ़रमानों के ठिकाऩों में बात इज़हार की आएगी एक दिन

1 2