दिवस का पूर्ण विराम

—◆◆◆— 🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟 स्वर्णिम लालिमा आच्छादित नभ में निज निड़ लौटते काले बिंदुओं सी पंछियों की कतार सुदुर क्षितिज पर समुद्र में समाता