संगम विचार धाराओं का

—◆◆◆—


🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟


संगम विचार धाराओं की
तहज़ीब गंगा जमुनी हो,
विविधता में एकता हो
सोंच अपनी-अपनी हो,
डरकर जीवन जीए न कोई
मिलकर सब हम साथ जीएं,
दुःख सुख में सब साथ रहें
नही धर्म की दीवार हो,
इंसानियत ही धर्म बड़ा है
इससे बड़ा न धर्म कोई,
इंसान बनकर देखे एकबार
दिल को कितना सुकून है.!

—◆◆◆—


रचनाकार [{ कवयित्री/कवि }] :- अजय केशरी✍


© OfficeOfswara.com

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.