मन की भाषा,

—◆◆◆—


🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟


मन की चाहत और
मन की भाषा,
न समझ आई कभी
अजब ये जिज्ञासा..

कभी पल में उड़ना
गगन छूने की चाह,
कभी ज़मीं पे गिरना
व समाने की चाह..

कभी भीड़ में खुद को
पाने की चाह
कभी यूँ तन्हा सब
भुला देने की चाह..

कितनी उलझनों में
घिरता ये मन
गिरता,उठता,
संभलता ये मन..

—◆◆◆—


रचनाकार [{ कवयित्री/कवि }] :- श्रेया✍


© OfficeOfswara.com

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.