बारिश आने वाली है

—◆◆◆—


🌟स्वरांजली🌟 शब्दों की गूँज🌟


गर्मी और पसीना से अब
राहत मिलने वाली है।
लगता है दो-चार दिनों में
बारिश आने वाली है।

आसमा पर फिर घनघोर
घटाएं छाने वाली है।
सुखी प्यासी धरती की
प्यास बुझाने वाली है।

पोखर,नदी,तालाबों से
जलधारा चलने वाली है।
सज-धज कर फिर”धरती”
अपनी”दुल्हन”बनने वाली है।

—◆◆◆—


रचनाकार [{ कवयित्री/कवि }] :- जितेंद्र✍


© OfficeOfswara.com

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.