हृदय से हृदय का मिलना

रहना न कभी #भ्रम मे
तुम्हारा हूं तुम्हारा रहूँगा।

हृदय से हृदय का मिलना
कोई कुदरत का खेल नही।।

रूठना न कभी ऐसे
चाहता हूँ दिल से तुम्हारे..

अगली रचना:- (( Next ))

________

***********

रचनाकार:- अवधेश तिवारी

अन्य लेखकों की रचनायें पढ़ने के लिए.. (( क्लिक करें ))

अन्य रचनाओं के लिए :-(( क्लिक करें ))

#स्वरा

|| धन्यवाद||

चित्र साभार: गूगल

आभार स्वरांजली

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.