धूप

—◆◆◆—

मैंने अपने घर को
स्नेहासक्त
प्रतीक्षारत देखा है
धूप की…

उज्ज्वल किरणें
बिखेर जाती है
धूप प्रति-दिवस
प्रणय में बँधी…

भोर की धूप
और मेरे घर के बीच
एक अनछुआ-सा
संबंध है…

नित्य आलिंगन-बद्ध
होने का दोनों में
एक अघोषित-सा
अनुबंध है…

—◆◆◆—

© OfficeOfswara.com

——–

*****************

रचनाकार:- काव्याक्षरा

अन्य लेखकों की रचनायें पढ़ने के लिए.. (( क्लिक करें ))

अन्य रचनाओं के लिए :- (( क्लिक करें ))

#स्वरा

|| धन्यवाद||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.