प्रकृति की गोद में

—◆◆◆—

प्रकृति की गोद में,
परिवर्तित हो जाती हूँ||

हर विकल क्षण से तब,
खुद को आजाद कर पाती हूँ||

मंद मंद वायु जब,
आलिंगन करती है….

स्वयं को आत्मा के मिलन
के प्रति समर्पित कर पाती हूँ||

—◆◆◆—

© OfficeOfswara.com

———

रचनाका:- सुनिधिचौहान

अन्य लेखकों की रचनायें पढ़ने के लिए.. (( क्लिक करें ))

अन्य रचनाओं के लिए क्लिक:- (( क्लिक करें ))

#स्वरा

3 comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.